आइए आवारगी के साथ बंजारापन सर्च करें

20 March 2009

राग चुनावी, द्वारा त्र्यंबक शर्मा

देश की इकलौती जीवित कार्टून पत्रिका कार्टून वाच के संपादक त्र्यंबक शर्मा के चुनावी राग पर एक नज़र










7 टिप्पणी:

anuradha srivastav said...

ha ha ha ..........mjedar

mamta said...

:)

ज्ञानदत्त । GD Pandey said...

सैड! हमारे दकियानूसी शहर में जीन्स खिसकती ही नहीं! :(

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

अच्छे व्यंग्य हैं।

Udan Tashtari said...

haa haa!! बहुत सही, बालक!! छा लिए शर्मा जी को लाकर.

KrRahul said...

सारे के सारे बहुत मजेदार.

अभिषेक ओझा said...

मजेदार !

Post a Comment

आपकी राय बहुत ही महत्वपूर्ण है।
अत: टिप्पणी कर अपनी राय से अवगत कराते रहें।
शुक्रिया ।