आइए आवारगी के साथ बंजारापन सर्च करें

22 February 2009

बीच बहस में एक और स्वागत, सिद्धार्थ कलहंस का

हिंदी ब्लॉगजगत में यह बहस अपने शुरुआती काल से ही चल रही है कि ब्लॉगजगत में पत्रकारों की जमात का दखल तेजी से बढ़ता जा रहा है। यह बहस तो खैर जारी ही रहेगी।

इसी बीच आवारा बंजारा एक और वरिष्ठ पत्रकार सिद्धार्थ कलहंस का यहां स्वागत करता है।

अमर उजाला,अंग्रेजी दैनिक पॉयनियर,इंडियन एक्सप्रेस में रह चुके सिद्धार्थ फिलहाल बिजनेस अखबार बिजनेस स्टैंडर्ड के लखनऊ ब्यूरो चीफ हैं।

उनका ब्लॉग है अनाप शनाप

उनके अपने शब्दों में उनका परिचय देखें तो …

मस्त मौला, पहले कस्बा और अब जिला हो जाने वाले बलरामपुर, उत्तर प्रदेश से 12
तक की पढ़ाई बाद में लखनऊ विश्ववविद्यालय से विज्ञान में स्नातक और समाज कार्य में परा स्नातक,
अच्छे बच्चे की तरह पहले दर्जे में ज्यादातर पास हुए पर लखनऊ में हास्टल मे रह कर काफी कुछ
सीख डाला। सरकारी कंपनी जीवन बीमा निगम में पहली नौकरी और एक साल प्रयोग के लिए छुट्टी
लेकर अमर उजाला नौकरी करने आए तो फिर पत्रकारिता नही छूटी। एक साल अमर उजाला,
फिर नौ साल अंग्रेजी दैनिक पॉयनियर, फिर करीब दो साल इंडियन एक्सप्रेस और बीते एक साल से
बिजनेस स्टैंडर्ड में कलम घिस रहे हैं। ब्लाग क्यों बनाया इसके लिए भी कारण है। गैरों िक क्या बात गिला
अपनो से ही है। लेिकन विधवा रुदन करने से बेहतर है खुद को सािबत करना और समाज के सामने
खड़ा रखना। सो मस्त मौला को क्या लेना देना। जो देखेगा कहेगा। लिखेगा और बयान कर देगा। आप पढ़ना,
पसंद आए तो तारीफ और नही तो जम कर गाली भी देना। इंतजार रहेगा। अलल्हा हक आपका ही नही
गैरों का भी सिद्धार्थ कलहंस

हिंदी ब्लॉगजगत पर आपका स्वागत है सिद्धार्थ जी

तो चलिए बहस का क्या है वो तो चलती ही रहेगी, आप हम फिलहाल चलते हैं अनाप शनाप पर……

12 टिप्पणी:

Udan Tashtari said...

सिद्धार्थ जी का स्वागत है.

Suresh Chiplunkar said...

मेरा भी नमस्कार और स्वागत और हाँ खबरदार, जो आपने "संजीत" नाम के पत्रकार को और पत्रकारों के साथ गिना तो… :)

Siddharth Kalhans said...

सुरेश जी आपका हुक्म सर आंखो पर। वैसे भी मैं संजीत जी को औरों में नही गिनता। सीनियर होने के बाद भी मैं ब्लाग की दुनिया में उनका चेला ही रहूंगा

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

सिद्धार्थ कलहंस जी का स्वागत है....

cmpershad said...

सिद्धार्थ जी का स्वागत, वेलकम...पर भहस है कहां:)

राजेंद्र त्‍यागी said...

पत्रकार सिद्धार्थ जी का स्वागत है। और आप भी शुभ कार्य के िलए स्‍वागत के पात्र हैं

Anil Pusadkar said...

स्वागत है कलहंस जी का और आपका भी।

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी said...

सिद्धार्थ जी का स्वागत इस सिद्धार्थ ‘सत्यार्थमित्र’ की ओर से भी। उम्मीद है कि अनाप शनाप पर काफी काम की बातें होंगी।

anitakumar said...

लिजिए जनाब हम भी घूम आये सिद्धार्थ जी के ब्लोग पर , ब्लोग का नाम चाहे उन्हों ने अनाप शनाप रखा हो लेकिन लिखा तो बड़िया है। एक सांस में पूरा पढ़ गये। उनसे मिलवाने का धन्यवाद और उन्हें नमस्कार

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

Welcome Siddhaarth ji

आशीष said...

स्वागत है जी

shakir khan said...

आपका ब्लॉग अच्छा लगा । यूँ ही लिखते रहिये । धन्यवाद !

Post a Comment

आपकी राय बहुत ही महत्वपूर्ण है।
अत: टिप्पणी कर अपनी राय से अवगत कराते रहें।
शुक्रिया ।